Indian Federation of Working Journalists
(Founded on 28 October 1950 at Jantar Mantar, New Delhi and Registerd as Trade Union)
Untitled Document
nature 1 nature 11 nature 6 nature 9 nature 4 nature 10 nature 8 nature 12 nature 13 nature 14 nature 15
 
Untitled Document
 
* IFWJ 126th Working Committee Meeting at Visakhapatnam
* Chennai conference to prepare National action plan for journalist safety
* श्रमजीवी पत्रकारों की सुरक्षा
* Come to Ujjain Kumbh invites M.P.Unit Mass May Day Rally by IFWJ Jharkhand 70th National Council to meet at Chennai
* मध्य प्रदेश इकाई द्वारा उज्जै कुम्भ आने का आमंत्रण झारखण्ड इकाई की मई दिवस पर रांची में महारैली चेन्नई में 10 जून से राष्ट्रीय परिषद की 70 वीं बैठक
* IFWJ achieves new heights
* संगठन के नये नियम
* IFWJ raises five demands. Voices protest on Tibet and PoK 30th Plenary session in Karnataka “Historic”
* आई ० एफ० डब्लू० जे० की 5 सूत्रीय मांगे तिब्बत और कश्मीर की हालत पर रोष कर्नाटक में सम्पन्न 30वां अधिवेशन ऐतिहासिक
* All Presidents and General Secretaries of the state units, Working Committee Members and Special invitees.
* रांची मे विशाल मई दिवस रैली जमशेदपुर में अगली बैठक बर्मा की यात्रा
* My leader and guide Jayasheel Rao
* Bhubaneshwar, Orissa 20-21 June 2015.
* Presidential Election 2016-2018.
* Press Release IFWJ Election 2016 -2018.
* Raipur Chattisgarh 13 & 14 Sepember 2015.
* Mathura Uttar Pradesh 29 & 30 November 2015.
 


Sri Lanka Tour 2015

आईएफडब्ल्यूजे के पत्रकार प्रतिनिधि मंडल ने किया दौरा
संस्कृतिक, समाजित, पौराणिक, राजनैतिक स्थिति का किया अवलोकन

 
कोलंबो। श्रीलंका के राष्ट्रपति, मंत्रियों, जनता एवं क्षेत्र जनप्रतिनिधियों ने हिन्दुस्तान से आए आईएफडब्ल्यूजे के प्रतिनिधि मंडल का श्रीलंका भ्रमण के दौरान जगह-जगह स्वागत तो किया ही, साथ ही कहा कि वे बहुत उम्मीद के साथ भारत एवं श्रीलंका के मजबूत संबंधो को आशा भरी निगाहो के साथ देख रहे है। ये लोग सकारात्मक पहलुओं को मजबूत बनाने की पहल भी करते नजर आए। गौरतलब हो कि आजादी के बाद से ही इन दोनो देशो के संबंध प्रगाण बने हुए है। वे अपने हर पहलु से भारतीय पत्रकारो को अवगत करना चाहते है। श्रीलंका के राष्ट्रपति मैथ्रिपाला सिरिसेना ने शुक्रवार को कोलंबो स्थित भंडारनायके अंतर्राष्ट्रीय प्रेक्षागृह मे सभी पत्रकार दल प्रमुख एच0बी0मदन गौडा की अगुवायी मे मिले। एच0बी0मदन गौडा के अलावा डा0सुधीर सक्सेना, चंद्रकिशोर शर्मा, के0विश्वदेव राव, प्रो0उपेंद्र पाधी आदि पत्रकारों का स्वागत किया। जहां उन्होने सभी का स्वागत किया। साथ ही संसद सुधार एवं मास मीडिया मंत्री गयंतकरुणा तिलक ने दल मे आए पत्रकारो का आभार व्यक्त करते हुए स्वागत किया। इस मौके पर के0विश्वदेव राव ने श्रीलंका के राष्ट्रपति को अपने दादा श्री के0रामा राव जो नेशनल हैराल्ड के संस्थापक संपादक की किताब “द पेन ऐस माइ स्वाड” भेंट की। इस कडी को गति देनी हेतु समारोह के समाप्ती उपरांत उक्त पत्रकारो को ऐसिया के प्रथम रेडियो स्टेशन रेडियो सिलान का भ्रमण कराया, इस दौरान उन्होने रेडियो स्टेशन के अध्यक्ष नंदा गमुरूतेदुलेगमा ने विभिन्न पहलूओं से अवगत कराया जो उसके रखरखा एवं संचालन से जुडी थी। इस दौरान उन्होने यह भी बताया कि कभी कभी अवश्यता अनुसार आॅल इंडिया रेडियो से संपर्क होता रहाता है। तदोपरांत श्रीलंका के उपमंत्री अरूणारत्न परणवितान ने प्रतिनिधि मंडल को रात्रि भोज पर आमंत्रित कर उनसे मीडिया की परिस्थियों एवं योगदान पर चर्चा की। शनिवार दिनांक 10 अक्टूबर को प्रतिनिधि मंडल भारत से जुडे पौराणिक स्थलों का भ्रमण किया। साथ ही श्रीलंका के सबसे संपन्न प्रान्त नुवारा एलिया का भ्रमण किया। इस दौरान नुवारा एलिया के मीडिया संगठन द्वारा रात्रि भोज का आयोजिन एक स्थानीय रिजाॅट मे श्रीलंकाई संसद के सदस्य अरूणा रत्नायके, काउसिंल मेम्बर आर0राजाराम, रोट्रीय क्लब के अध्यक्ष तुलिब गणेशा, राधाकृष्णा, अशोका, शिवा श्रीधरण आदि नेे एच0बी0मदन गौडा, डा0सुधीर सक्सेना, चंद्रकिशोर शर्मा, के0विश्वदेव राव, प्रो0उपेंद्र पाधी, सौरभ पटनायक, हरिओम पाण्डेय, विकास शर्मा, नवीन, बृजेश कुमार पाण्डेय, विश्वतेजा, अनुरूप पाण्डेय आदि का गर्म जोशी से स्वागत किया। इस अवसर पर जहां उन्होने भारतीय संयोग की सराहना की वही कुछ क्षेत्रों मे सहयोग की उम्मीद जताई। आईएफडब्ल्यूजे के प्रतिनिधि मंडल को दौरे के लिए कृत्ज्ञता व्यक्त की। इससे पूर्व मध्यान भोजन के लिए शहर के महापौर महिंद्र दोदमपेगमागे ने भी आईएफडब्ल्यूजे प्रतिनिधि मंडल के सदस्य पत्रकारो को आमंत्रित किया। अगले दिन रविवार को दल हिन्दुस्तान से पौराणिक कथा से जुडे स्थल सीता अग्नि परीक्षा एवं हनुमान मंदिर आदि स्थलो का अवलोकन किया। इस दौरान होटल सीरेमन के मालिक ने रात्रि भोज पर सम्मान के लिए बुलाया। सोमवार के दिन की शुरूआत भारतीय दल ने कैडी मे स्थित भगवान बुद्ध के मंदिर से की जहां उनका पवित्र दांत रखा गया है। इस पवित्र दांत को प्राप्त करने के लिए श्रीलंका के अंदर राजाओं मे कई बार संर्घष हुआ है। 


 
   
© Copyright 2014, Indian Federation of Working Journalists. All rights reserved
Privacy Statement | Site Map | Disclaimer